बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना: आवेदन की प्रक्रिया और पात्रता

ताज़ा आंकड़ों के हिसाब से भारत में लगभग 66 करोड़ महिलाएं हैं। यह सारी महिलाएं मिलकर भारत की आबादी का लगभग 48.04 % हिस्सा होती हैं। वैसे तो हमारे भारत के समाज में स्त्रियों का एक काफी महत्वपूर्ण स्थान होता है। लेकिन आज भी हमारे देश के काफी सारे क्षेत्र ऐसे है जहाँ महिलाओं को उनका हक़ मिलना काफी मुश्किल है। कई इलाकों में तो महिलाओं की स्थिति काफी दयनीय भी है।

कुछ लोग छोटी बच्चियों को जन्म के समय या फिर उससे पmहले ही मार देते हैं। हमारी सरकारों ने कन्या भ्रूण हत्या जैसे अपराधों पर रोक लगाने के लिए काफी सारे कानून बनाये हैं और यह कानून काफी हद तक कामयाब भी हुए हैं। लेकिन आज हम सरकार द्वारा चलाई जा रही एक ऐसी योजना के बारे में बात करेंगे जोकि लोगों की सोच को बदलने में काफी उपयोगी हो सकते है। इस योजना का नाम है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना (Beti Bachao Beti Padhao)। आज हम इस आर्टिकल में इस योजना से जुड़ी हुयी काफी सारी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे की इस योजना में आवेदन की प्रक्रिया आदि के बारे में बात करेंगे। अगर आप भी यह सारी जानकारी लेना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ सकते हैं। 

Also Read:- Manav Sampada UP

Beti Bachao Beti Padhao Scheme: Overview

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना 2015 में भारत की केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई थी। इस योजना का शुभारम्भ भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया था। इस योजना के माध्यम से भारत सरकार लोगो में लड़कियों के प्रति गलत सोच को बदलना चाहती है। शुरुआत में सरकार ने इस योजना के लिए 100 करोड़ रुपये का बजट रखा था इस बजट में से एक काफी बड़ी राशि लड़कियों के लिए चलने वाली अलग अलग कल्याणकारी योजनाओ में जाती है।

इसके अलावा इस योजना को तैयार करने का एक सबसे बड़ा कारण भारत में गिरता हुआ लिंग अनुपात भी है। भारत में 2001 में हुई जनगणना के हिसाब हर 1000 लड़कों के मुकाबले 927 लड़कियां थी वही यह अनुपात 2011 में हुई जनगणना में हर 1000 लड़कों के मुकाबले 918 लड़कियों पर आ गया। इस गिरते हुए लिंग अनुपात में एक बहुत बड़ा योगदान लोगों की सोच का है जो लड़कियों को बोझ समझते हैं। ऐसे लोग कभी भी नहीं चाहते की उनके घर पर लड़कियां पैदा हों। ऐसी सोच को ख़तम करना भी इस योजना का एक उद्देश्य है। 

शुरुआत में इस योजना के लिए लगभग 100 ऐसे ज़िलों का चुनाव किया गया जहाँ लिंग अनुपात काफी बिगड़ा हुआ है। ऐसे क्षेत्रों में काफी अलग अलग कार्य सरकार करेगी जिससे लड़कियों को सशक्त बनाया जा सके और स्थिति में कुछ सुधार हो। इस योजना के अंतर्गत काफी अलग अलग योजना चलाई जा रही है जिससे लड़कियों को काफी फायदा भी हो रहा है।

योजना के तहत अपनायी गई रणनीति

इस योजना के तहत सरकार काफी अलग अलग तरह की रणनीतियों पर काम कर रही है। इन रणनीतियों में जागरूकता अभियानों से लेकर कुछ योजनाएं चलाना भी शामिल है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना में अपनायी गयी कुछ रणनीतियां इस प्रकार हैं।

  1. BBBP योजना में सरकार ने सबसे पहले पूरे देश में ऐसे स्थान चिन्हित किये हैं जहाँ लिंग अनुपात सबसे अधिक बिगड़ा हुआ है। इसके बाद ऐसे ज़िलों और शहरों में काफी गहन अभियान चलए जा रहे है।
  2. सरकार गिरते हुए लिंग अनुपात का मुद्दा जनता के बीच ले जाकर उन्हें इस मुद्दे की गंभीरता समझा रही है। इस तरह से वह लोगों में इस समस्या को लेकर जारूकता भी फैला रही है।
  3. प्रभावित इलाकों में समाज के हरेक वर्ग को इस अभियान के तहत प्रेरित किया जा रहा है। जागरूकता अभियान चलाकर समाज को अपने तथा लड़कियों के विकास के लिए प्रेरित किया जा रहा है।
  4. लड़कियों के प्रति जो कुछ लोगों की रूढ़िवादी सोच है उसे भी जागरूकता अभियान चलाकर बदलने की कोशिश की जा रही है।

BBBP योजना का उद्देश्य

जैसे की हम पहले भी बात कर चुके हैं की यह योजना बिगड़ते हुए लिंग अनुपात में सुधार लाने के लिए बनाई गयी है। आप बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना को एक अभियान भी कह सकते हैं जिसमे अलग अलग तरह की रणनीतियां और योजनाएं चल रही हैं। यह योजनाएं समस्या की जड़ पर काम करने के उद्देश्य से बनाई गयी है जिसमें की लोगों की सोच को बदलने का प्रयास किया जाएगा। आज भी कई लोग समाज में लड़कियों को बोझ समझते हैं और उन्हें लड़कों से काम आंकते हैं। ऐसी सोच के दुष्परिणाम समाज में हरेक उम्र की लड़कियों को भुगतने पढ़ रहे हैं। इस योजना के माध्यम से लिंग अनुपात सुधरने के साथ साथ लड़कियों का सामाजिक तथा आर्थिक विकास करने का भी उद्देश्य है।

Also Read:- Shala Darpan Rajasthan

Beti Bachao Beti Padhao योजना के लाभ

वैसे तो इस योजना के काफी सारे लाभ हैं लेकिन उनमे से कुछ लाभ हम नीचे लिख रहे हैं।

1. इस योजना के अंतर्गत चलाई जा रही कुछ योजनाओं में लड़कियों के बैंक अकाउंट खुलवाए जा रहे हैं। यह बैंक अकाउंट लड़कियों के जन्म से लेकर उनके 10 वर्ष की उम्र होने तक कभी भी खुलवाए जा कस्ते हैं।

2. इन बैंक अकाउंट में डलने वाली राशि से लड़कियों को सामाजिक सुरक्षा मिलेगी तथा उनका आर्थिक विकास भी होगा।

3. BBBP योजना में चल रही योजनाओं के माध्यम से सरकार लड़कियों की शिक्षा में भी मदद कर रही है।

4. इस योजना के माध्यम से कन्या भ्रूण हत्या जैसे अपराधों पर भी रोक लगाने में मदद मिलेगी।

5. लोगों में जागरूकता आने से लड़कियों के प्रति उनकी सोच में भी बदलाव लाने में सहायता मिलेगी जिससे वह लड़कियों को बोझ ना समझें।

Beti Bachao Beti Padhao योजना में आवेदन की प्रक्रिया

जैसा की हम पहले भी बात कर चुके हैं की इस योजना में काफी सारी अलग अलग योजनाएं और अभियान चलाये जा रहे हैं। लेकिन इनमें से कुछ महत्वपूर्ण योजनाएं बैंक अकाउंट से जुडी हुई हैं। इस हैडिंग के नीचे हम इसी से जुडी हुई आवेदन प्रक्रिया के बारे में आपको जानकारी देंगे।

Step 1- सबसे पहले आपको अपने सबसे निकट वाले बैंक या पोस्ट ऑफिस शाखा में जाना होगा।

Step 2- बैंक या पोस्ट ऑफिस की शाखा में पहुँचने के बाद आपको यहाँ से बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का आवेदन फॉर्म लेना होगा।

Step 3- आवेदन फॉर्म लेने के साथ ही अगर उसपर कोई भी निर्देश लिखे हुए हैं तो उसे अच्छे से पढ़ लें और पढ़ने के बाद उस फॉर्म को निर्देशों के अनुसार भरना शुरू करें।

Step 4- फॉर्म में सारी जानकारी भरने के बाद उसमें जो भी ज़रूरी दस्तावेज़ हैं उन्हें फॉर्म में जोड़ दें।

Step 5- यह सारा काम करने के बाद आपको वापस उसी बैंक या पोस्ट ऑफिस शाखा में जाना है और उस फॉर्म को जमा कर देना है।

इस तरह से आप इस योजना में लड़की का खता खुलवा सकते हैं और सरकारी योजना का लाभ ले सकते हैं।

पात्रता 

योजना के अंतर्गत बैंक खता खुलवाने की पात्रता हम नीचे लिख रहे हैं।

  1. कोई भी परिवार जिनके यहाँ लड़की की उम्र 10 साल से काम है वह इस योजना के अंदर बच्ची का खाता खुलवा सकते हैं।
  2. इस योजना में सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत बैंक में खाता होना चाहिए।
  3. इसके अलावा लड़की को भारत का नागरिक होना चाहिए क्यूंकि NRI इस योजना का लाभ लेने के पात्र नहीं हैं।

ज़रूरी दस्तावेज़

  1. बेटी का आधार कार्ड।
  2. बेटी का जन्म प्रमाण पत्र।
  3. लड़की का पासपोर्ट साइज फोटो।
  4. एक चालू मोबाइल नंबर।
  5. निवेश का प्रमाण पत्र।
  6. अभिवावक का प्रमाण पत्र।

BBBP के अंतर्गत चलने वाली अलग अलग योजनाएं

जैसा की हम आपको पहले ही बता चुके हैं की BBBP के अंतर्गत काफी सारी अलग अलग योजनाएं और अभियान चलते हैं। इन्ही योजनाओं में से कुछ हम नीचे लिख रहे हैं।

  1. धनलक्ष्मी योजना
  2. लाड़ली योजना
  3. लाड़ली लक्ष्मी योजना
  4. कन्याश्री प्रकल्प योजना
  5. सुकन्या समृद्धि योजना
  6. बालिका समृद्धि योजना

यह कुछ नाम हैं इस BBBP के अंतर्गत चलने वाली योजनाओं के।

Also Read:- Pahani

बैंक अकाउंट के लाभ

इस योजना के अंतर्गत खुलवाए बैंक अकाउंट और उसमे पैसे डालने के काफी सारे फायदे हैं। मान लीजिये अगर अपनी बेटी का बैंक अकाउंट इस योजना में खुलवाते हैं और उस अकाउंट में हर महीने 1000 रुपये या हर साल 12000 यूपीए डालते हैं तो 14 वर्षों तक आप अकाउंट में कुल 1,68,000 की धन राशि जमा करा चुके होंगे। जब यह अकाउंट लड़की के 21 वर्ष की आयु पर परिपक्व हो जाएगा तो आपको कुल 6,07,128 रुपये मिलेंगे। इन पैसा में से आप 50% लड़की के 18 वर्ष की आयु पर निकाल सकते हैं और बाकी के उसके विवाह के समय निकाल सकते हैं।

ऐसे ही अगर आप बैंक अकाउंट में 1.5 लाख रूपये जमा कराते हैं तो 14 वर्षों में आप कुल 21 लाख रुपये जमा करवा चुके होंगे। लड़की के 21 वर्ष का होने पर खता परिपक्व हो जाएगा और आपको कुल 72 लाख रुपये दिए जाएंगे

Final Words

Beti Bachao Beti Padhao अभियान आज की परिस्थितयों को ध्यान में रख कर लिया हुआ एक काफी अच्छा कदम है। ऐसे जागरूकता अभियान की समाज को बहुत ज़रुरत है जिससे लड़कियों को सामाजिक सुरक्षा मिले। इन कदमों से लड़कियों का आर्थिक विकास भी होगा जिससे पूरा देश और मज़बूत बनेगा। इसके साथ हम इस आर्टिकल को यही समाप्त करते हैं। हमने इस आर्टिकल में सारी जानकारी देने का पूरा प्रयास किया है। अगर आपको हमारी दी हुयी जानकारी पसंद आयी होतो आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ में शेयर भी कर सकते हैं।

Leave a Comment